Financial Literacy Mission Part-1

 

जागो निवेशक जागो                               जागो निवेशक जागो                               जागो निवेशक जागो  (1)

यह जानकारी आपको वित्तीय जागरूक बनाने के लिए है जिससे आप अपनी वित्तिीय ज़रूरतों को पूरा करने के लिए सही निर्णय ले सकें.

(1).क्या आप मानते हैं कि निवेश एक ज्ञान आधारित विषय है?

निवेश एक ज्ञान आधारित क्षेत्र है. यहाँ पर समय के साथ बहुत बदलाव आते रहते हैं. कभी ब्याज़की दरें बढ़तीं हैं तो कभी घटती है. कभी टेक्स के नियमों मे बदलाव होता है. वेश्विक घटनाओं का हमारे निवेश पर असर पड़ता है, जैसे कि सोने की कीमतें वैश्विक कारणों पर निर्भर करतीं हैं. इन सभी बदलावों का असर आपके निवेश पर पड़ता है. इनकी जानकारी एक जागरूक निवेशक के लिए लाभदायी होती है. निवेश के क्षेत्र में ज्ञान ही आपकी शक्ति है (Knowledge is power in the Investment World).

(TIP-1) उदाहरण के लिये अगर ब्याज़ की दरों मे घटाव संभावित है, तो हमे लंबे समय के लिए फिक्स्ड डिपॉसिट करनी चाहिए, जिससे की गिरती ब्याज़ दरों का हमारे ऊपर असर ना पड़े.

एक और जानकारी जो आपके लिए काफ़ी उपयोगी है. सामान्यता: पीपीएफ में लोग वित्तिीय वर्ष के अंत में (फ़रवरी या मार्च) निवेश करतें हैं जिससे कि टेक्स की बचत की जा सके. (TIP-2)लेकिन जागरूक लोग पीपीएफ में अप्रेल (वित्तिीय वर्ष के .प्रारंभ में) में पाँच तारीख के पहले ही निवेश कर देते हैं, जिससे उन्हें पूरे वर्ष का ब्याज़ मिलता है. पीपीएफ के पूरे समय 15 वर्ष तक एप्रिल माह में एक लाख रुपये जमा करने वाला मार्च माह में एक लाख जमा करने वाले से 249497 रुपये ज़्यादा कमाता है

पीपीएफ  समय 15 वर्ष निवेश प्रतिवर्ष एक लाख रुपये
ब्याज़ दर 8.7% प्रतिवर्ष कुल निवेश पंद्रह लाख रुपये
पंद्रह वर्ष तक निवेश करने वालों की मेचुरिटी
हर साल एप्रिल में निवेश करने वाले की (वित्तिीय वर्ष के प्रारंभ में) 3117275 रुपये
हर साल मार्च में निवेश करने वाले की ( वित्तिीय वर्ष के अंत में) 2867778 रुपये
अंतर 249497 रुपये

ऐसी बहुत सी जानकारियाँ होतीं हैं जो कि आपको एक जानकार निवेश सलाहकार (Investment Advisor) समय समय पर देता है, एवं उस जानकारी का उपयोग आपकी संपन्नता के लिए करता है. अतः इस बात को पहचानें कि निवेश की अच्छी प्रगति के लिए ज्ञान बहुत ही आवश्यक है.

अतः अपने निवेश सलाहकार को भी उसी तरह चुनें जैसे की आप अपने स्वास्थ्य सलाहकार (डॉक्टर) को चुनते हैं

क्या आपको पीपीएफ की ये जानकारी अभी तक पता थी?

** The world is not a problem, the problem is your unawareness. **

 

(2).क्या आप बीमा एवं निवेश मे अंतर समझते हैं ?

अधिकाँश लोगों के लिए बीमा और निवेश मे कोई फ़र्क पता नही होता. लोग बीमा को निवेश की तरह से इस्तेमाल करते हैं. बीमा  वित्तिीय योज़ना(Financial Planning) का एक महत्वपूर्ण अंग है, परंतु ज़्यादातर  लोग बीमे को ठीक से समझते नही हैं. परिणामस्वरूप लोगों की बचत बहुत कम रफ़्तार से बदती है (ब्याज़ कम मिलता है). बीमा और निवेश दोनों ही अलग अलग अवधारणाएँ हैं. जीवन बीमे का मतलब  होता है मृत्यु के ख़तरे से आपकी एक हद तक मौद्रिक सुरक्षा, जबकि निवेश का मतलब  होता है, आपके पैसे की अधिकतम संभावित वृद्धि. लेकिन ज़्यादातर लोग बीमे और निवेश को एक साथ लेते हैं और बीमे और निवेश की खिचड़ी पकाते हैं, जिससे उन्हे ना तो पर्याप्त बीमा मिलता है, और ना ही उनके निवेश में पर्याप्त वृद्धि हो पाती है.

आजकल सामान्यतः लोगो के पास 3-4 लाख का बीमा होता है, यदि परिवार के कमाने वाले व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो बीमा कंपनी आश्रित को

3-4 लाख रुपये  दे देगी , आजकल के मेंहगाई के जमाने में  3-4 लाख रुपये से परिवार का क्या होगा. यहीं बीमा अगर 50 लाख या 1 करोड़ का होता तो परिवार की भविष्य की ज़रूरतें पूरी हो सकती थीं. अब आपको 50 लाख/ 1 करोड़ का बीमा सुन के डरना नही चाहिए. जागरूक लोग आजकल इससे कम जीवनबीमा नहीं लेते हैं . कृपया जीवनबीमा को निवेश के नज़रिए से ना देखें, जीवनबीमा रिस्क से निपटने का एक साधन है. जैसे कि आप अपनी स्कूटर, (जिसकी कीमत 50-60 हज़ार होती है) के लिए 1000 रुपये का बीमा करते हो, पर ये कभी नही सोचते हो कि, जल्दी से कोई दुर्घटना हो ,जिससे आप क्लेम कर सको. और यदि उस वर्ष कोई दुर्घटना नहीं होती तो आपके 1000 रुपये बेकार चले जाते हैं. बीमा के बारे मे हमे ऐसी सोच नही रखनी चाहिए. क्यों कि दुर्घटनाओं का कोई समय नहीं होता. लोग दुर्घटनाओं के बाद ही संभलते हैं, लेकिन तब तक देर हो चुकी होती है. लेकिन, क्या आपने कभी सोचा है कि आपकी जिंदगी कितनी मूल्यवान है?

जागो निवेशक जागो                               जागो निवेशक जागो                               जागो निवेशक जागो   (2)

*तीस (30) वर्ष का व्यक्ति तीस (30)वर्षों के लिए 25 लाख का  शुद्द जीवन बीमा लगभग  16 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से ले सकता है.

*तीस वर्ष का व्यक्ति तीस वर्षों के लिए 50 लाख का  शुद्द जीवन बीमा लगभग 23 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से ले सकता है.

*पैतीस वर्ष का व्यक्ति तीस वर्षों के लिए 50 लाख का  शुद्द जीवन बीमा लगभग 34 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से ले सकता है.

क्या आप जानना चाहते हैं कि आपके लिए कितना जीवनबीमा ज़रूरी है और आपको सस्ता बीमा कैसे मिलेगा

 

 “We may believe that a certain investment scheme is the best, simply because we have no knowledge of other schemes.”

 

(3).क्या आपकी बचत /निवेश मेंहगाई की मार को झेल पाएगी?  

सरकारी आँकड़ो के अनुसार 1981-82 से 2015-16 तक मेंहगाई की दर 7.03% थी, और 2005-06 से 2015-16 तक मेंहगाई की दर 8.08% थी.

ज़्यादातर लोग बचत और निवेश मे फर्क नहीं समझतें हैं. बचत इनकम और खर्चे का अंतर होती है, जबकि निवेश का मतलब  होता है आपकी बचत की सही रफ़्तार. सही रफ़्तार का अर्थ है कि आपका निवेश मेंहगाई से तेज भागे. यदि आप वास्तविक संपत्ति कमाना चाहते हैं, तो ऐसा निवेश चुनें जो आपको मेंहगाई से ज़्यादा रिटर्न दे. वर्ष 2005-06 से 2015-15 मे मेंहगाई की दर 8.08% थी, शिक्षा के खर्चे 10% से बढ़ रहें हैं, मेडिकल के खर्चे 10-15% से बढ़ रहें हैं. क्या आपके निवेश मेंहगाई की रफ़्तार को हरा पाएँगे? यदि आपका निवेश इससे कम रिटर्न दे रहा है, तो वास्तव में आप कमा नहीं रहें हैं…..गौर से सोचें.

यदि आपकी बचत मेंहगाई से कम रफ़्तार से बढ़ रही है, तो मेचुरिटी के समय आपको आपकी बचत का फल अप्रभावी लगेगा, क्योंकि वो आपको आपके लक्ष्यों तक पहुँचा नहीं पाएगा. अतः अभी जागरूक हों, और निरीक्षण करें, कि आपकी वर्तमान बचतें सही रफ़्तार से बढ़ रहीं हैं या नहीं. सामान्यतः जो लोग जीवन बीमा को बचत या निवेश की तरह इस्तेमाल करतें हैं, उनके रिटर्न 5-6% के आस पास होते हैं,

आपको आज कोई एजेंट ये कहे कि आपको बीस साल बाद पचीस लाख रुपये मिलेंगे, तो आप बहुत खुश हो जातें हैं ,क्योंकि आप आज के पचीस लाख के बारे मे सोच रहें हैं. क्या आपने कभी ये सोचा है कि बीस साल बाद जब आपको पच्चीस लाख रुपये मिलेंगे तब उस समय पच्चीस लाख की कीमत (value) क्या होगी (लगभग सवा दो लाख रुपये आज के बराबर), ठीक उसी तरह जैसे आज से पच्चीस साल पहले 1990 में एक लीटर पेट्रोल की कीमत मात्र 9.84 रुपये थी, जो की आज लगभग 60 रुपये प्रति लिटेर है (प्रतिवर्ष 7.57%).

रुपये 1990 2015 कीमत वृद्धि-दर
एक लीटर पेट्रोल 9.84 60 7.60%
एक लीटर दूध 6 48 8.67%
एक किलो आटा 5 25 6.40%

अब आप अनुमान लगा सकतें हैं की वर्ष 2040/2045/2050 में कीमतें क्या होंगीं ?

आपने कभी इस बात पे गौर किया है कि वर्ष 2000 में इंजिनियरिंग की लागत लगभग 1,50000 रुपये थी, जिसकी लागत आज (2016 में)  6 लाख है, तो पंद्रह साल बाद इंजिनियरिंग की लागत लगभग पचीस(25) लाख रुपये होगी. आप 6 लाख की प्लांनिंग करेंगे या 25 लाख की ?

बढ़ती मेंहगाई के कारण लखपती शब्द आजकल अप्रासंगिक हो गया है, जो कि आपके बचपन के समय मे काफ़ी प्रचलित था.

** “Inflation is taxation without legislation.”- Milton Friedman**

(4).क्या आप अपने निवेश को योजनाबद्ध तरीके से करते हैं, जिससे कि आपकी वित्तिीय ज़रूरतें सही समय पर आसानी से पूरी हो जाएँ, या आप ज़रूरत के समय पर जागरूक होते हैं? क्या आप निवेश मे योजना के महत्व को समझते हैं?

एक बड़ी अच्छी कहावत है  “A good planning is half the work done”

और ये कहावत हर जगह लागू होती है, निवेश में भी. ज़्यादातर लोग निवेश के क्षेत्र को बहुत मामूली तरह से देखतें हैं, और निवेश के बारे मे जागरूक जनवरी से मार्च में होते हैं, जब टेक्स की बचत का विवरण जमा करना पड़ता है. उस समय मुख्य मुद्दा टेक्स की बचत होता है. लोग मुख्यता: ये देखतें हैं कि 80सी की बचतों में जितना बच रहा है, उतना पैसा कहीं लगा दें. यहाँ पर बहुत ही कम लोग सोचते हैं कि जब 80सी में 1.5 लाख रुपये हर साल लगाना ही है, तो क्यो ना इसे कुछ योजनाबद्ध(Financial Planning, FP) तरीके से लगाया जाए. कैसे 1.5 लाख रुपये प्रतिवर्ष आपके लंबे समय की

तमाम ज़रूरतें (बच्चों की पढ़ाई, विवाह, आपका रिटाइयर्मेंट इत्यादि) को आसानी से पूरा कर सकता है, यदि आप जागरूक एवं योजनाबद्ध(FP) तरीके से निवेश करें. हर निवेश का कोई ना कोई लक्ष्य होना चाहिए.

जागो निवेशक जागो                               जागो निवेशक जागो                       जागो निवेशक जागो          (3)

योजनाबद्ध तरीके से निवेश ना करने के कारण लोग हमेशा चिंतित रहते हैं, और मेंहगाई को दोष देते रहतें है, जिससे समस्या का समाधान तो नही होना है. इस कारण से लोगों मे आत्मविश्वास का अभाव रहता है. आत्मविश्वास की कमी के कारण लोग अपने बच्चों की महत्वाकांच्छाओं को पूरा करने मे असमर्थ पातें हैं. लंबे समय की बिना योज़ना की बचतों का परिणाम यह होता है कि ज़रूरत के समय हम लोग उचित धन /संसाधनों की व्यवस्था नही कर पाते. फिर उस अवस्था में ह्मारे सामने निम्न परिस्थितियाँ पैदा हों जातीं हैं

ज़्यादातर बच्चे अच्छी शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं, परंतु सभी ऐसा नहीं कर पाते, जिसके कई कारण हो सकतें हैं. लेकिन मुख्य कारण उचित धन का अभाव होता है.

(A)पहली अवस्था तो ये की जब हमें अपने वित्तीय लक्ष्य पूरे करने ही हैं,और हम परिवार के लक्ष्यों से समझौता नहीं करना चाहते हैं तो हमें या तो कर्ज़ा लेना पड़ता है/ या  हमें दूसरों के आगे हाथ फैलाना पड़ता है / या हमें अपनी परिसंपत्तियों को बेचना पड़ता है.

तीनों ही अवस्थाएं दुखदायी होतीं हैं.

(B) दूसरी अवस्था में फिर हम अपने परिवार के लक्ष्यों से समझौता करतें हैं, जैसे बच्चे को इंजिनियरिंग(B. Tech) की तैयारी की बजाय साधारण स्नातक (BA, B.Sc etc)) की शिक्षा करने को कहते हैं. उचित धन के अभाव मे लड़की के विवाह में भी समझौता करना पड़ता है. और तर्क यही होता है कि किस्मत खराब है या मेंहगाई बहुत है या भाग्य मे यही लिखा है.

निवेश एक बहुत ही गंभीर विषय है, क्योंकि यहाँ पर लोगों के वर्तमान और भविष्य की खुशियों का सवाल है, अतः गंभीर होकर विचार करें. हम लोग अपना अधिकतम समय कमाने में लगातें हैं, लेकिन जो कमा रहे हैं, क्या उसे आप सजा भी (अरेंज /मॅनेज) रहें है.

या ध्यान ना देकर भविष्य की सज़ा बना रहें हैं.

उदहारण के लिए हम एक छोटे परिवार की भविष्य की ज़रूरतों के बारे मे विचार करते हैं. परिवार में चार स्दस्य हैं.

पति, पत्नी, एक लड़का (2 वर्ष), एक लड़की (5 वर्ष)

इस छोटे परिवार के भविष्य की कुछ निश्चित वित्तीय आवश्यकताओं का अनुमानित समय निम्न हैं :-

मद / समय पति(30 वर्ष)/पत्नी(28 वर्ष) लड़का (2 वर्ष) लड़की (5 वर्ष)
घर 05/10/15 वर्ष
उच्च शिक्षा 17 वर्ष 14 वर्ष
विवाह 23 वर्ष 20 वर्ष
रिटाइयर्मेंट 30 वर्ष

इस छोटे परिवार के भविष्य की कुछ निश्चित वित्तीय आवश्यकताएँ/ वा उनकी लागत संक्षेप में निम्न हैं :-

आज की लागत भविष्य की लागत
मद / रुपये पति/पत्नी लड़का लड़की
घर 63/88/124 लाख
शिक्षा(इंजी.) @8% 5 लाख 18.5 लाख 15 लाख
विवाह     @8% 4 लाख /10 लाख 23.5 लाख 46.6 लाख
रिटाइयर्मेंट @7% 15000 रुपये प्रति माह 114184 रुपये प्रति माह
1.47 करोड़ रुपये बीस वर्ष की पेन्सन के लिए


“Failing to plan is planning to fail.”

 जागो निवेशक जागो                               जागो निवेशक जागो                               जागो निवेशक जागो   (4)

इस परिवार को भविष्य में 14 से 30 वर्षों के समय में निम्न लम्सम धन की आवश्यकता होगी. यहाँ पर मान लीजिए बच्चे इंजिनियरिंग की पढ़ाई करतें हैं, जो की सबसे सस्ती होती है,(क्योंकि मेडिकल,एमबीए की पढ़ाई का खर्चा तो बहुत होता है.)

लक्ष्य /(आज की लागत*) समय / वर्ष भविष्य की लागत
लड़की की शिक्षा (5 लाख) 14 वर्ष बाद/2030 में 15 लाख*
लड़के की शिक्षा (5 लाख) 17 वर्ष बाद/2023 में 18.5 लाख
लड़की का विवाह (10 लाख) 20 वर्ष बाद/2036 में 46.6 लाख
लड़के का विवाह (4 लाख) 23 वर्ष बाद/2039 में 23.5 लाख
रिटाइयर्मेंट  (20 लाख) 30 वर्ष बाद/2046 में 147 लाख
*सारे आँकड़े रुपये हैं कुल लागत 250.6 लाख

उपर्युक्त आँकड़े वास्तविक लक्ष्यों का अनुमानित चित्रण है.

यदि उपर्युक्त लक्ष्य आपके लक्ष्यों से मिलते जुलते हैं, तो आज ही चेक करें, कि क्या आपकी बचतें आपको आपके लक्ष्यों तक आसानी से पहुचा देंगी.

क्या आप आशवस्त हैं कि आपका वर्तमान निवेश/ बचत आपकी भविष्य की ज़रूरतों को पूरा कर देगा ?

आज से 14 वर्ष से 30 वर्षों के अंतराल में परिवार को अपने लक्ष्यों की पूर्ति के लिए कम  से कम 2.5 करोड़ रुपये की ज़रूरत पड़ेगी. उपर्युक्त लक्ष्यों की सत्यता के लिए आप अपने जानने वाले बड़े बुजुर्गों से आज से बीस साल पहले इन सभी लक्ष्यों की लागत जान सकतें हैं. क्या आपको ये लक्ष्य देखने मे कठिन प्रतीत होते हैं?. ऐसा नहीं है, यदि आप अनुशासन के साथ योजनाबद्द तरीके से निवेश करेंगे, तो आप अपने लक्ष्यों को समय पर आसानी से पर प्राप्त कर सकतें हैं.

क्या आप का निवेश वास्तविकताओं से रूबरू है, या सिर्फ़ मन की तसल्ली के लिए खानापूर्ति हो रही है. यह सच है कि जब हम वास्तविकताओं से रूबरू होते हैं तो डर जातें हैं? ज़्यादातर लोग ऐसा कहते हैं कि हाँ, हम कुछ बचतें कर तो रहे हैं, 4-5 पॉलिसी भी चल रहीं हैं, पर कभी हिसाब नही लगाया, कि हम सही जा रहें हैं या नहीं . हिसाब लगाइए (check it), ये आपकी गाढ़ी कमाई है. अभी भी देर नही हुई है.

निवेश को गंभीरता से सोचें, समझें एवं अपने गंभीर निवेश सलाहकार के निरंतर संपर्क में रहें. अपने निवेश की प्रगति का एक निशित समयानतराल के बाद निरीक्षण करें जिससे आप ये जान सकें की आपका निवेश सही दिशा में सही रफ़्तार से जा रहा है कि नहीं. निवेश कोई टाइमपास विषय नहीं है, लेकिन ज़्यादातर लोग लोग निवेश को इसी तरह से देखतें हैं. अतः

**अपने परिवार की खुशियो के लिए निवेश को गंभीरता से लें.

**अति आत्मविश्वास (overconfidence) से बचें, वास्तविकता (reality) में जिएं.

**ज्ञान (knowledge) की महत्ता को पहचानें (क्योंकि ग्यान ही आपको आपका हक़ दिलाता है).

**जागरूक बनें. क्योंकि आपके जागरूक हुए बिना आपका भला होने वाला नहीं है.

निवेश एक बहुत ही व्यापक एवं ज्ञान आधारित विषय है. यहाँ पर संक्षेप में कम शब्दों मे कुछ जानकारी देने का प्रयास किया गया है, अधिक जानकारी के लिए आप निसंकोच संपर्क कर सकते हैं. आप निश्चित ही महसूस करेंगे कि ज्ञान निवेश की सफलता में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है.

Contact for more detailed presentation (at least 2 hours) and discussion session for Financial Awareness.

एक सही निवेश सलाहकार के साथ जुड़ने के लाभ :-

**आपकी वित्तिीय समस्याओं को सही तरह से समझने की कोशिश.

**आपको निरंतन जागरूक रखने का प्रयास, जिससे आप सही निर्णय लें सकें

**सही मायने मे सही सलाह, जो आपके लिए उचित है.

**आपका हित सर्वोपरि

** संपूर्ण पारदर्शिता

Abhishek Gupta (Investment Advisor/Financial Planner)                                    |Mob:9208221150

ADVANCED WEALTH MANAGEMENT COURSE from Indian Institute of Banking and Finance

www.iibf.org.in

http://iibf.org.in/documents/RulesSyllabus/2015/AWMC.pdf

Address :178, W-2, JuhiKalan, Near Sachan Guest House, Kanpur-27                                                 Investment update on Whatsapp Mobile: 9208221150                                                                       |Email:  abhi.fp@gmail.com

सभी वित्तिीय उत्पाद उपलब्ध

एफडी, बॉन्ड, म्यूचुयल फंड, बीमा, इत्यादि

सेवा का एक मौका अवश्य दें

** Goal Based Investment Planning (Education/Marriage/House…etc)

** Financial Planning

** Risk Planning (Life/Health/Accidental Insurance)

** Tax Planning

** Retirement Planning

 ** The two most powerfull warriors are patience and time. **

Always Remember:-

“Managing money requires more skills, than making it”

Advertisements

Banking interview preparation : Are you not yet satisfied…????

The interviews for SBI clerk, IBPS PO and IBPS RRB are expected in near future. This is the most important part of the selection process.  This round will test the depth of the knowledge of the candidates. This round will also judge the personality traits of the aspirants.

To succeed in this round , a rigorous and disciplined approach is needed. The Interview Board expects you to be sharp and quick decision maker, that means they check your confidence of your knowledge. Depth of your knowledge makes you confident and ultimately a good decision maker. Since PO is the entry level management position, some kind of decision making skills are expected from you. To succeed , you have to be a very good reader of diverse topics. Topics in interview may vary from social to economic, but chances are more of economic topic. You are required to have good understanding of socioeconomic issues. Try to read as much as possible and collect sharp thoughts on diverse issues.

I assure you, on the basis of my last 9 years of teaching at Mahendra Banking, Vidyasagar and The Bankers.

My success ratio of past selection is the testimony of my approach of teaching.

My rigorous teaching approach ensures that you become dynamic personality within the coaching period of 15 days or more. I teach until, I make you doubtless. Days don’t matter at all. I am here to make you feel happy. If I am successful in making you happy, i.e, your final selection, then objective of all are fulfilled. I am not asking fee in the starting, because I believe in me.

I will try hard to improve your confidence level up to your satisfaction. You will learn with me to explain the complex topics in very simple way, that is what is expected from you by the Interview Board.

I want to assure that, you will feel the change in you during my classes.

I , myself appeared in the RBI Grade-B Interview ,this three level (Pre, Mains, Interview) exam is the toughest banking exam in India.

 

Brief Introduction :

Abhishek Gupta

B.Sc (Science)

Post Graduate Diploma in Capital Markets from Indian Institute of Capital Markets, Navi Mumbai

Diploma in Banking and Finance (Equivalent to JAIIB) from Indian Institute of Banking and Finance

Ex Senior Faculty at Mahindra Banking Institute, Delhi

Ex Visiting Faculty Vidyasagar Banking Institute

Interview classes at The Bankers

Many students selected in different Banks and Financial Institutions

Currently teaches independently

Teaching Philosophy :

* Totally performance oriented  (Pay the fee after selection) , If I perform my duty of your final selection, You pay the fee , then only

*Rigorous minimum 15 days 02 hours per day classes, which can be extended as per need of the hour. The objective is to make you full of confidence

Classes to start  from December 2014

Contact :09208221150

Location:Kanpur (UP)

Mail/facebook       :abhi.fp@gmail.com

TRY HARD -TO SUCCEED

Best Wishes